पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा अकादमी (पी डी यू एन एस एस)

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार

प्रस्तावना

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (क.भ.नि.सं.) विश्व के सबसे बड़े सामाजिक सुरक्षा संगठनों में से एक है और वर्तमान में यह अपने सदस्यों के 15 करोड़ से अधिक खातों का रखरखाव कर रहा है। भविष्य निधि पेंशन और बीमा के रूप में सामाजिक सुरक्षा लाभ प्रदान करने के माध्यम से यह संगठन लाखों भारतीयों के जीवन को सहारा देता है।

संगठन में प्रशिक्षण एवं अनुसंधान को गति देने के लिए राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा एवं अनुसंधान संस्थान नामक केन्द्र 1990 में क.भ.नि.सं. के मुख्यालय में स्थापित किया गया था। नवंबर 1992 से नाटरस ने एक स्वतंत्र इकाई के रूप में कार्य करना आरंभ किया और इसे राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा एवं अनुसंधान अकादमी (नाटरस) के रूप में जाना गया। जैसा कि अब इस संस्थान का नाम बदलकर “पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा अकादमी (पी.डी.यू.नास)” हो गया है, यह समय ई.पी.एफ.ओ. के कर्मियों के सम्बन्ध मे मार्गदर्शन तथा निर्देश के लिए उनकी बढ़ती हुई उम्मीदों पर प्रभावी तरीके से खरा उतरने के लिए एक आधुनिक योजना के प्रारम्भ की तैयारी का है।

सामाजिक सुरक्षा मे एक प्रमुख प्रशिक्षण संस्थान होने के नाते, अकादमी अन्य सामाजिक संस्थानों जैसे ई.एस.आई.सी. श्रम मंत्रालय, असम चाय बागान कामगार भविष्य निधि, तथा जम्मू तथा कश्मीर भविष्य निधि इत्यादि से भी प्रतिभागियों को आमंत्रित करती है। उदेश्य केवल ई.पी.एफ.ओ. के अधिकारियों को प्रशिक्षण प्रदान करना नहीं है, बल्कि देश तथा विदेश में सामाजिक सुरक्षा के प्रशासन से जुड़े ऐसे सभी संगठनों के कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण प्रदान करना है ताकि यह संस्थान सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में क्षमताओं और योग्यताओं के निरंतर विकास मे समर्थकारी बन सकें।

यह अभिप्रेत है कि सभी कर्मियों को सही समय पर मुख्यालय तथा क्षेत्रीय संस्थानों मे अपने कार्यों का निर्वहन करने के लिए उनके व्यवसायिक कौशल के उन्नयन के लिए परिचय पाठ्यक्रमों तथा विशेष पाठ्यक्रमों/कार्यशालओं के माध्यम से आवश्यक प्रशिक्षण एक्सपोजरदिया जाएगा। संगठन ने कंप्यूटर सहयोग की प्रस्तावना के द्धारा कार्यो के आधुनिकीकरण का कार्य अपने हाथों में लिया है राष्ट्रीय अकादमी के साथ-साथ आंचलिक संस्थानों मे कर्मियों के लिए कंप्यूटर के विभिन्न स्तरों पर प्रयोग तथा प्रबन्धन हेतु आवश्यक प्रशिक्षण सुविधा की व्यवस्था है।

जनक पुरी, नई दिल्ली मे स्थित राष्ट्रीय अकादमी का भवन होस्टल तथा मूल सूविधाओं के साथ एक स्वपूर्ण प्रशिक्षण संस्थान है तथा इसे देश में बेहतर प्रशिक्षण संस्थानों के समतुल्य बनाने हेतु विकसित किया जा रहा है। अकादमी की एक साथ 20-30 प्रतिभागियों के तीन प्रशिक्षण कार्यक्रम एक साथ चलाने की क्षमता है।